स्वच्छ भारत: खुले में शौच करने वाले एक वृद्ध से मारपीट

0
2668

भोपाल : स्वच्छता अभियान की वकालत करने वाले पीएम मोदी खुद को प्रधान सेवक और देश की गरीब जनता को मालिक कहते हैं। लेकिन देश में गरीब जनता के साथ कैसा सुलूक किया जा रहा है और स्वच्छता अभियान कि क्या हक़ीक़त है। इसकी एक बानगी मध्य प्रदेश के उज्जैन में देखने को मिली।

स्वच्छता अभियान एक वीडियो वायरल हुआ है। इसमें खुले में शौच करने वाले एक वृद्ध से मारपीट किये जाने के साथ उसे इस बात के लिए मजबूर किया गया कि वह मल अपने हाथों से साफ करे।

28 दिसंबर को सुनहरी घाट पर हुई इस घटना में उज्जैन नगर निगम के कर्मचारियों ने वृद्ध को मल साफ करने के लिए मजबूर किया। जिस वृद्ध के साथ ये घटना हुई वह चिन्तामण जवासिया गांव का रहने वाला है।

उज्जैन नगर निगम प्रशासन ने वीडियो वायरल होने के बाद तीन कर्मचारियों को सस्पेंड कर दिया।  ईटीवी को  उज्जैन नगर निगम के आयुक्त आशीष सिंह ने बताया,  हमने इस मामले में तीन कर्मचारियों सहित एक सफाई इंस्पेक्टर को निलंबित किया है।

यह कार्रवाई हमने दो सदस्यीय जांच कमेटी द्वारा रिपोर्ट पेश करने के बाद की।  इस जांच कमेटी में दो अतिरिक्त आयुक्त विशाल चौहान एवं संजय मेहता थे।

इससे पहले इस वीडियो के सोशल मीडिया में वायरल हो जाने के बाद नगरीय प्रशासन विभाग के प्रमुख सचिव मलय श्रीवास्तव ने रिपोर्ट मांगी थी।  सिंह ने बताया कि निलंबित होने वाले कर्मचारियों में सफाई इंस्पेक्टर मुकेश सरवन और दो सफाई कर्मचारी लक्की एवं राहुल शामिल हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here