समाजवादी पार्टी को अखिलेश की वजह से मुस्लिम विरोधी समझने लगे हैं मतदाता: मुलायम सिंह

0
2549
समाजवादी पार्टी

समाजवादी पार्टी में फूट तय है। सोमवार को चुनाव आयोग पार्टी के सिंबल पर भी अपना फैसला सुना सकता है। मुलायम सिंह यादव और अखिलेश यादव की ओर से पार्टी के सिंबल पर दावा करते हुए अलग-अलग याचिका दायर की गई है। आयोग दोनों पक्षों को सुन चुका है। इस बीच, मुलायम सोमवार की सुबह पार्टी कार्यकर्ताओं से मिले। कुछ कार्यकर्ता रोते हुए बोले- नेताजी पार्टी बचा लीजिए। इस पर मुलायम ने कहा- मैंने बहुत कोशिश की, अखिलेश मेरी नहीं सुनते।

आज सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव ने कहा है कि वह अगले महीने से शुरू हो रहे विधानसभा चुनावों में अखिलेश के खिलाफ उम्मीदवार उतारेंगे।

मुलायम सिंह ने यह बयान मीडिया की मौजूदगी में पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए दिया।

“अखिलेश भाजपा और हमारे अन्य प्रतिद्वंद्वियों के साथ नजदीकियां बढ़ा रहा है। हम चुनाव लड़ेंगे, हमें अखिलेश के खिलाफ लोगों की मदद लेनी होगी। मैंने उसे समझाने की कोशिश की है लेकिन वह अपनी गलतियों को समझ नहीं कर रहा है,” मुलायम ने कहा।

पार्टी का अखिलेश समर्थक धड़ा जो कांग्रेस और अजीत सिंह की पार्टी राष्ट्रिय जनता दल से गठबंधन की तय्यारी कर रहा है, उस पर मुलायम सिंह ने आरोप लगाया है कि अखिलेश की भाजपा से बढ़ती नजदीकियों के कारण जनता को लगता है कि समाजवादी पार्टी मुसलमानों के खिलाफ है।

मुस्लमान उत्तर प्रदेश राज्य की जनसँख्या का 19 प्रतिशत हैं और यह समाजवादी पार्टी का एक बड़ा मतदाता समूह है। इसी समर्थक समूह की वजह से मुलायम सिंह को मुल्ला मुलायम भी कहा जाता रहा है।

अखिलेश समर्थक धड़े ने पहले आरोप लगाया था कि मुलायम के धड़े में मौजूद शिवपाल सिंह और अमर सिंह भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के इशारों पर पार्टी में तोड़फोड़ करा रहे हैं। अखिलेश समर्थक धड़े को उम्मीदें हैं कि कांग्रेस के साथ गठबंधन से उन्हें ज़्यादा मत हासिल हो सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here