बल्लभगढ़ में रोज़ेदार मुस्लिम लड़कों पर चलती ट्रेन में चाकुओं से हमला, एक की मौत

0
129436
representative image

मुसलमानों के खिलाफ हो रही सांप्रदायिक हिंसा रुकने का नाम नहीं ले रही है। ताज़ा घटनाक्रम में हरयाणा के बल्लभगढ़ में मुस्लिम युवाओं के खिलाफ हिंसा का मामला सामने आया है। इस हिंसा में तीन सगे भाइयों में से एक की मौत और दो गंभीर रूप से घायल हो गए हैं।

गुरुवार शाम बल्लभगढ़ के खंदाव्ली गाँव निवासी तीन सगे भाई जुनैद (17 वर्ष), कासिम (22 वर्ष) और शाकिर (20 वर्ष) अपने एक दोस्त मोहसिन (16 वर्ष) के साथ ईद के लिए खरीदारी कर दिल्ली से पलवल जाने वाली लोकल ट्रेन में दिल्ली सदर स्टेशन से बल्लभगढ़ के लिए सवार हुए थे। इस ट्रेन में दिल्ली के तुगलकाबाद स्टेशन से युवाओं का एक समूह चढ़ा और इन युवाओं के पास बैठ गया।

कुछ वक़्त बाद कासिम को दाढ़ी और टोपी में देख इन युवाओं ने मुसलमानों के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणिया शुरू कर दीं और इन लड़कों को जबरन सीट से खड़ा कर दिया। ऐसा करने के बाद इनके बीच कहासुनी हुयी जो जल्दी ही झड़प में तब्दील हो गयी। जुनैद ने कासिम के घर पर फ़ोन कर झगड़े की खबर दी। इसके बाद गाँव से 5-6 लोग इनकी मदद के लिए स्टेशन पहुँच गए।

बल्लभगढ़ आने के बाद जब इन भाइयों ने ट्रेन से उतरने की कोशिश की तब इन दंगाई युवकों ने इनका रास्ता रोक लिया और इन्हें ट्रेन से उतरने नहीं दिया गया। लेकिन मोहसिन किसी तरह ट्रेन से उतरने में और गाँव से आये दो युवा ट्रेन के डब्बे में चढ़ने में कामयाब रहे।

बल्लभगढ़ स्टेशन से ट्रेन के चलने के बाद डब्बे में सवार दंगाई युवकों ने अपने पास मौजूद चाकू निकाला और सबसे पहले जुनैद पर और उसके बाद कासिम और शाकिर पर चाक़ू से वार किया। हमलावरों की संख्या ज़्यादा होने और चाकुओं से हमला होते देख बचाने आये युवक कुछ न कर सके। चाकू से हुए ज़ख्मो से जुनैद की ट्रेन में ही मौत हो गयी और कासिम और शाकिर गंभीर रूप से घायल हो गए।

हमलावर इन्हें अपने साथ पलवल ले जाना चाहते थे लेकिन गाँव से आये युवाओं ने किसी तरह इन्हें खींच कर बल्लभगढ़ के बाद आने वाले असावटी स्टेशन पर उतारा और घटना की जानकारी परिजनों और पुलिस को दी गयी। फ़िलहाल गंभीर रूप से घायल कासिम और शाकिर को पलवल के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इनकी हालत अत्यधिक गंभीर बताई जा रही है।

सूत्रों के मुताबिक पुलिस का कहना है कि हमलावरों में से दो युवकों के फोटो पुलिस को मिले हैं लेकिन अभी तक किसी की गिरफ़्तारी नहीं हुयी है।

लोगों का कहना है कि दिल्ली से पलवल और मथुरा के बीच चलने वाली लोकल ट्रेनों में लोगों के बीच की झड़प होती रहती है लेकिन ऐसा पहली बार हुआ है जब किसी व्यक्ति को उसके मज़हब की वजह से ट्रेन में जान से मार दिया गया हो।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here