मोब लिंचिंग के पीड़ितों को न्याय दिलाने के लिए शुरू की गयी एक पहल

0
5247
लिंचिंग

मुसलमानों के खिलाफ़ लगातार हो रही हिंसा के खिलाफ मुस्लिम इंडिया नाम के एक संगठन ने एक ऑनलाइन पिटीशन शुरू किया है। इस ऑनलाइन पिटीशन में भारत के एक लाख से ज़्यादा लोगों के सिग्नेचर इकट्ठा करने की कोशिश की जा रही है। यह पिटीशन भारत के राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और चीफ़ जस्टिस को भेजा जायेगा। यह पिटीशन भारत के राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और चीफ़ जस्टिस से ये मांग करता है कि देश में लगातार हो रही मॉब लिंचिंग / भीड़ द्वारा हत्या को तुरंत रोका जाए।

अब तक मुस्लिम समुदाय के दो दर्जन से से भी ज़्यादा लोग अलग अलग जगहों पर मोब लिंचिंग / भीड़ के हाथों मारे जा चुके हैं और भारत सरकार इस मसले पर लगातार चुप्पी साधे हुई है। सरकार की इस तरह की चुप्पी इन हत्याओं के पीछे एक गहरे राजनैतिक एजेंडा का संकेत देती है। ऐसी सभी हत्याओं में शामिल अपराधी सरे आम किसी की जान लेने के बाद भी बिलकुल सुरक्षित और खुले घूम रहे हैं।  उनमें से किसी के खिलाफ़ कोई कारवाई अब तक नहीं हुई है। ये सिर्फ और सिर्फ इस बात का संकेत है के भीड़ द्वारा हिंसा को एक सामान्य और स्वीकार्य सिलसिले के तौर पर भारतीय समाज में जगह मिल रही है और इसे लगातार आम नागरिकों के ज़हन में भरा जा रहा है। इस तरह की हिंसक प्रवृत्ति अपने आप में आज़ाद भारत के मूल आदर्श के लिए ही ख़तरा है, वो देश जिसकी बुनियाद ही राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के अहिंसा के सिद्धांत पर रखी गयी थी।

मुस्लिम इंडिया ने इस पिटीशन को शुरू करते हुए देश के नागरिकों से आग्रह किया है कि वो इस पिटीशन पर साइन करें। इस पिटीशन की मुख्य मांग है कि मॉब-लिंचिंग यानी भीड़ द्वारा हत्या के खिलाफ़ सख्त कानून बनाया जाए, ऐसे सभी मामलों में शामिल अपराधियों को सख्त सज़ा दी जाए, और अब तक जितने लोग ऐसी घटनाओं का शिकार होकर मारे गये हैं उनमें से हर एक के परिवार को 35 लाख रूपये की सहायता राशि सरकार की तरफ़ से दी जाए। अगर भारत सरकार ये क़दम उठाने में असफल रहती है तो मुस्लिम इंडिया भारत भर में एक लोकतान्त्रिक आन्दोलन की शुरुआत करेगा।

इस ऑनलाइन पिटीशन में बतौर सबूत कुछ विडियो भी लगाये गए हैं जिसमें बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने साफ़ साफ़ ये स्वीकार किया है कि उन्होंने राजस्थान में पहलू ख़ान की हत्या की है। इसके बावजूद उनके खिलाफ़ कोई भी कारवाई नहीं हुई है।

आप यह पिटीशन यहाँ Change.org पर देख सकते हैं।

मुस्लिम इंडिया के बारे में –

मुस्लिम इंडिया लोकतंत्र में यक़ीन रखने वाले उन नागरिकों का एक अनौपचारिक नेटवर्क है जो इस देश के मुसलमानों का हिन्दुत्ववादी हिंसा और हत्याओं के खिलाफ संघर्ष में साथ देना चाहते हैं, जो इस बात से सरोकार रखते हैं के मुसलमानों को उनके सभी संवैधानिक अधिकार मिलें।

मुस्लिम इंडिया का गठन पूर्व आईएस अधिकारी, संसद सदस्य और महत्वपूर्ण मुस्लिम नेता सय्यद शहाबुद्दीन ने किया था। भारतीय संविधान में हमारा पूरा यक़ीन है, हम संविधान का सम्मान एक ऐसे दस्तावेज़ के तौर पर करते हैं जो इस देश के सभी नागरिकों को, जिसमें इस देश के मुस्लिम भी शामिल हैं, सबको समान अधिकार देता है। मुस्लिम इंडिया इस देश के संविधान और उसके आदर्शों के प्रति प्रतिबद्ध है और हमेशा इनको तोड़ने या नकारने की किसी भी कोशिश के ख़िलाफ़ आवाज़ उठाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here