मेवात: साज़िश के तहत लगवाए गये ज़बरदस्ती पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे

0
783618

मेवात: प्रसिद्ध आर टी आई कार्यकर्ता सलीम बेग के नेतृत्व में नेशनल राईट्स रिसोर्स सेंटर (NRRC) की एक फैक्ट फाइंडिंग टीम ने हरियाणा के गुरुग्राम के जफरुद्दीन से मुलाक़ात की जिसके साथ साम्प्रदायिक मानसिकता वाले युवको के द्बारा जबरन दाढ़ी काटने और मारपीट करने का मामला आया है।

फैक्ट फाइंडिंग टीम में जाने माने सामाजिक कार्यकर्ता, सुप्रीमकोर्ट के वकील और पत्रकार शामिल थे I फैक्ट फाइंडिंग टीम ने जफरुद्दीन से मुलाक़ात घटना स्थल जो एक सैलून (गुरुग्राम सेक्टर 37), पुलिसस्टेशन सेक्टर 37 जहां इस घटना की FIR दर्ज की गयी ,का दौरा किया I  टीम जहाँ ज़फ्रुद्दीन का खाने का होटल चलता है उस जगह भी गई ।

विनोद शर्मा (सैलून की जगह के मालिक), गुरुग्राम सेक्टर 37 के पुलिसकर्मी (जिन्होंने अपना नाम बताने से मना कर दिया), जफरुद्दीन और उसके के रिश्तेदार और पड़ोसियों से बातचीत के आधार पर 11 सदस्यीय फैक्ट फाइंडिंग टीम का मानना है कि ज़फरुद्दीन के साथ हुई घटना एक सोची समझी साजिश है । यह अच्छी तरह से ट्रेंड(प्रशिक्षित) और राइट विंग पार्टियों और संगठनों का एक समूह है जिसे सरकार की सुरक्षा और समर्थन है।

घटना के दिन ज़फरुद्दीन ने मदद के लिए पुलिस को बुलाया लेकिन पुलिस से उसे मदद नहीं मिली ।  फैक्ट फाइंडिंग टीम का मानना है की इस घटना को देशद्रोह का रंग देने के लिए साम्प्रदायिक मानसिकता वाले युवको ने ज़फरुद्दीन से ज़बरदस्ती पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगवाने की कोशिश की। जिससे इस घटना को दूसरा  मोड़ दिया जा सकेI

इस घटना को अंजाम देने के लिए एक मुस्लिम सैलून का चुनाव भी इसी लिए किया गया ताकि इसकी असल मकसद और तीव्रता को कम किया जा सके और मुसलमानों को खौफ़जादा भी किया जा सके।

फैक्ट फाइंडिंग टीम के सदस्यों का मानना है की यह घटना साफ़ तौर पर दिखाती है कि यह धार्मिक नफरत के आधार पर की गयी हैI  लेकिन पुलिस इसे सामान्य घटना की तरह दिखाने की पूरी कोशिश कर रही है।

फैक्ट फाइंडिंग टीम में NRRC की तरफ से सलीम बेग (आरटीआई कार्यकर्ता), तारिक अदीब (सुप्रीम कोर्ट के वकील), इनामुल हसन (रिसर्चर), राजीव यादव (सामाजिक कार्यकर्ता), जाकिर अली त्यागी (पत्रकार), प्रवीण सिंह (पत्रकार), अशफाक आलम (NRRC), देव चौधरी (पत्रकार), विश्वास राणा (पत्रकार), अनुराग वाजपेयी (पत्रकार), और मोहम्मद आदिल (सामाजिक कार्यकर्ता) शामिल थे ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here