मुसलमानों के खिलाफ हो रही हिंसा के विरोध में शबनम हाश्मी करेंगी अवार्ड वापिस

0
3996
अवार्ड

दिल्ली: मुसलमानों के खिलाफ हो रही हिंसा के विरोध में जानी मानी सामाजिक कार्यकर्त्ता शबनम हाश्मी ने आज अपना नेशनल माइनॉरिटी राइट्स अवार्ड वापस करने का ऐलान किया है।

पिछले तीन सालों में पुणे में मोहसिन शेख और दादरी में अखलाक की भीड़ द्वारा हत्या के बाद से इस तरह की घटनाएं बढ़ती जा रही है। हाल ही में बल्लभगढ़ में ट्रेन में ऐसी ही एक सांप्रदायिक भीड़ ने जुनैद नाम के एक 16 वर्षीय युवक को मार डाला और उसके भाइयों को गंभीर रूप से घायल कर दिया। अब शायद ही कोई दिन ऐसा बीतता है जब कहीं से हिंसक भीड़ द्वारा मुसलमानों को मारने की खबर नहीं आती।

इन घटनाओं में सरकारी प्रशासनिक तंत्र पूरी तरह से फेल हो गया है और अक्सर सांप्रदायिक भीड़ के पक्ष में खड़ा नज़र आता है। कई जगह पुलिस खुद इस भीड़ की भूमिका निभाती नज़र आती है। ऐसा अभी झारखण्ड में पुलिस द्वारा एक युवक को उसके घर से निकाल कर बेवजह गोली मार देने की घटना में देखा गया। इस तरह की घटनाओं से मुस्लिम समुदाय में बेहद रोष है।

इन घटनाओं के विरोध में मुस्लिम समुदाय और देश के प्रगतिशील नागरिक अलग अलग तरीके से अपना विरोध दर्ज करा रहे हैं। कल देशभर में मुसलमानों ने काली पट्टियाँ बाँध कर ईद की नमाज़ अदा कर एक सांकेतिक विरोध दर्ज कराया। इसके बाद अब जानी मानी सामाजिक कार्यकर्त्ता शबनम हाश्मी ने आज अपना नेशनल माइनॉरिटी राइट्स अवार्ड वापस करने का ऐलान किया है।

शबनम हाश्मी आज दोपहर 2:30 बजे खान मार्किट, दिल्ली स्थित नेशनल माइनॉरिटी कमीशन में जा कर उन्हें मिला नेशनल माइनॉरिटी राइट्स वापस करेंगी। शबनम हाश्मी के ऑफिस से ज़ारी एक प्रेस न्योते में कहा गया है कि अवार्ड वापिस करने के बाद शबमन हाश्मी प्रेस से भी मुखातिब होकर अपना बयान ज़ारी करेंगी।

इससे पहले भी पिछले साल विभिन्न क्षेत्रों से जुड़े हुए कई सामाजिक कार्यकर्ताओं, लेखकों और अन्य व्यक्तियों ने दलितों, अल्पसंख्यकों, आदिवासियों और प्रगतिशील तबके से जुड़े व्यक्तियों पर हो रहे हमले के विरोध में अपने अवार्ड वापिस किये थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here