बरेली में मुस्लिम विरोधी पोस्टर लगा कर साम्प्रदायिकता फैलाने की कोशिश-रिहाई मंच

0
3703
बूचड़खाने

 बाबा साहेब की मूर्ति को तोड़कर मनुवादी भाजपा की जीत का जश्न मना रही है

लखनऊ :  रिहाई मंच ने बरेली में भाजपा की जीत के बाद मुसलमानों को गाँव छोड़ने की धमकी देने वाले पोस्टर पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा है पोस्टर में जिस तरफ से साम्प्रदायिकता फैलाने की कोशिश की जा रही है। रिहाई मंच ने महोबा में बाबा साहेब भीमराव अम्बेडकर की मूर्ति तोड़े जाने और महोबा के चरखारी मोहल्ले में रमजान के ऊपर भाजपा के लोगों द्वारा जानलेवा हमले की कडी निंदा की है। मंच ने बाबासाहेब की मूर्ति तोड़े जाने पर कहा की देश के संविधान निर्माता अम्बेडकर की मूर्ति को तोड़कर मनुवादी भाजपा की जीत का जश्न मना रही है जिसको बर्दाश्त नही किया जायेगा।

मंच के महासचिव राजीव यादव ने बरेली में भाजपा की जीत के बाद मुसलमानों को 30 दिसम्बर 2017 तक  गाँव छोड़ने की धमकी देने वाले पोस्टर पर टिप्पणी करते हुए कहा है कि पोस्टर में साफ़ तौर पर संरक्षक के बतौर भाजपा सांसद आदित्यनाथ योगी का नाम लिखा गया है योगी के मुस्लिम विरोधी और सांप्रदायिक चरित्र को नाकारा नही जा सकता है। इस पूरी घटना की जाँच करते हुए दोषियों के खिलाफ तुरंत कार्यवाही की जाये।

उन्होंने बताया कि महोबा के अम्बेडकर पार्क में बाबा साहेब की मूर्ति को तोडा जाना इस बात को साफ़ करता है की भाजपा की मंशा क्या है। मीडिया में उत्तर प्रदेश की जीत पर शेखी बघारने वाले  मोदी को यह बताना चाहिए कि बाबा साहेब की मूर्ति तोड़ने भाजपा के लोगों की मंशा क्या है?  उन्होंने कहा कि मनुवादियों को पता नही है की असली विपक्ष बाबा साहेब की पीढ़ी ने उनके खिलाफ सड़कों पर तैयार कर रखा है।

उन्होंने महोबा के महोबा के चरखारी मोहल्ले में रमजान के ऊपर भाजपा के लोगों द्वारा जानलेवा हमले की निंदा करते हुए कहा की भाजपा के नेता जो पुरे चुनाव भर गुंडाराज-गुंडाराज कहकर प्रचार कर रहे थे यह उनका रामराज है जिसमे दलित – मुसलमान सुरक्षित नही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here