बीफ बेन के खिलाफ हाईकोर्ट में याचिका दायर करने पर गौरव जैन को गौ रक्षकों की धमकी

0
3595
गौ

गौ मांस के ऊपर दादरी में अख़लाक़ की हत्या के बाद से मुल्क में बिगड़े हुए हालत सुधरते हुए नज़र नहीं आ रहे हैं। हर हफ्ते देश के किसी न किसी कौने गौ रक्षकों की भीड़ द्वारा किसी न किसी इंसान को मार डालने की खबरें लगातार आ रही हैं। शुरुआत में गौ रक्षकों का आतंक सिर्फ मुसलमानों तक ही सीमित नज़र आ रहा था। लेकिन अब ये उग्रवादी लोग हर उस व्यक्ति को आतंकित करते हुए नज़र आ रहे हैं जो इनके विचारों से सहमत नहीं है।

गौ रक्षकों के इस आतंक की इस कड़ी नया पीड़ित कानून का छात्र गौरव जैन है। गौरव ने दादरी में अखलाक की हत्या के बाद अशोका रोड स्थित भाजपा मुख्यालय पर एक विरोध प्रदर्शन का आयोजन किया था। हालाँकि यह विरोध प्रदर्शन दिल्ली पुलिस ने होने नहीं दिया था। इसके बाद गौ हत्या सम्बंधित कानूनों के खिलाफ गौरव ने दिल्ली हाईकोर्ट में एक पीआईएल भी दाखिल की थी।

गौरव सोशल मीडिया के माध्यम से भी गौ रक्षकों के आतंक का मुखर विरोध करता रहा है। गौरव का यह विरोध कथित गौ रक्षकों के गले नहीं उतर रहा है। इसलिए उन्होंने गौरव को आतंकित करना शुरू कर दिया है। गौरव के मुताबिक अखिल भारतीय हिन्दू महासभा ने दिल्ली में द्वारका स्थित उसके आवास के नज़दीक और आसपास के इलाकों में उसके फोटो, नाम, फ़ोन नंबर और घर के पते के साथ एक पोस्टर मंदिरों में चिपकाया है। इस पोस्टर में फोटो के ऊपर हाथ से लिखा गया है, ‘सूत्रों से पता है कि यह लड़का और इसका पिता जैन समुदाय से होने के बावजूद मांसाहारी और शराबी हैं। इन्होने अपने घर पर मांस की दूकान खोली हुयी है।’

इस पोस्टर के अलावा खुद को अखिल भारतीय हिन्दू महासभा का अध्यक्ष बताने वाले विष्णु गुप्ता ने ‘घोर कलयुग – जैनियों द्वारा गौ मांस का सेवन और हाई कोर्ट केस’ शीर्षक के साथ एक पत्र जैन समुदाय के लिए भी लिखा है।

इस पत्र में उसने लिखा है कि अहिंसा की शिक्षा देने वाले जैन समुदाय में ऐसे व्यक्ति का होना बेहद शर्मनाक है। इस पत्र में गौरव के बारे में लिखा गया है, ‘यह कुकर्मी गौ मांस को बनाने, खाने और खिलाने, ओर लोगों को भड़काने का ब्रांड एम्बेसडर है।’

दो पृष्ठ लम्बे इस पत्र के अंत में धमकी भरे स्वर में लिखा गया है, ‘यह पत्र इसलिए आपको लिखा जा रहा है कि अगर आप सही मायने में अहिंसा धर्म प्रेमी हैं और इस पाप में इनके भागीदार नहीं हैं, तो उठिए और इन्हें समझाइये और अनर्थ होने से रोकिये, नहीं तो हम समस्त जैन समाज को अपने तरीके से समझा देंगे जो आपको शायद कदापि अच्छा न लगे।’

अपने और संगठन के नाम के साथ ऐसा धमकी भरा पत्र प्रेषित करना यह दर्शाता है कि गौ रक्षा के नाम पर आतंक फैलाने वाले इन संगठनों और कार्यकर्ताओं को शायद अब कानून कार्यवाई का कोई डर नहीं बचा है। कानून को कभी भी अपने हाथ में ले लेना इनके लिए सामान्य हो चुका है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here