एक्शन एड के कम्युनिटी किचन से सैकड़ों संकटग्रस्त मजदूरों और जरूरतमंदों, अप्रवासियों को मिल रहा है भोजन

0
2502

नई दिल्ली, 3 मई 2020

कोविड महामारी और देशव्यापी लॉकडाउन के इस संकट में यदि कोई सबसे ज्यादा प्रभावित हैं तो वो हैं गरीब, किसान, असहाय एवं प्रवासी दिहाड़ी मजदूर हैं सच्चाई यह हैं कि देशव्यापी लॉकडाउन की घोषणा होते ही इनकी रोजी रोटी छीन गयी और ये भूखे रहने को मजबूर हो गए और आज सबसे ज्यादा संकटग्रस्त और मुश्किल घड़ी हैं।

सलीम बेग ने बताया कि इस वैश्विक महामारी मेँ सामाजिक संस्था एक्शन एड ग़रीब किसान मज़दूर और अप्रवासी लोगों के साथ इस मुश्किल घड़ी मेँ उनके साथ खड़ी हैं। उन्होंने बताया सामाजिक संस्था एक्शन एड द्वारा स्थानीय युवा साथियों के साथ मिलकर उत्तर पश्चिमी दिल्ली के बवाना में कम्युनिटी किचन की स्थापना की है। जिसके माध्यम से एक्शन एड रोजाना सैंकड़ों जरूरतमंद लोगों को उनके घर तक तक खाना पहुंचाने का काम कर रही है। इस संस्था द्वारा कोविड लॉकडाउन अवधि में दिल्ली एवं एन सी आर के विभिन्न इलाकों में कम्युनिटी किचन और अलग अलग माध्यमों द्वारा 30000 से अधिक लोगों तक पका हुआ भोजन पहुंचाया जा चुका है। साथ ही दिल्ली में 7400 गरीब एवं असहाय परिवारों को सूखा राशन तथा दूसरी  जरुरी सामग्री का वितरण कर इस मुसीबत की घड़ी में लोगों का सहारा बन कर खड़ी है।

इस कम्युनिटी किचन का नेतृत्व स्थानीय स्तर पर एक्शन एड के समुदाय संगठन सवेरा यूथ ग्रुप के सदस्यों द्वारा किया जा रहा हैI संस्था से जुड़े स्थानीय कार्यकर्ता अंसार ने बताया कि हम इस कम्युनिटी किचन के माध्यम से उत्तर पश्चिमी दिल्ली के अलग-अलग इलाकों में रोजाना लगभग 1500 लोगों को पका हुआ भोजन देते हैं। ये सभी लोग अलग-अलग प्रकार के दैनिक मजदूर, प्रवासी मजदूर, विधवा, एकल महिलाएं व उन परिवारों के सदस्य हैं।

एक्शन एड के एसोसिएट डायरेक्टर तनवीर काज़ी का कहना है “एक्शन एडभारत सरकार के विभिन्न मंत्रालय तथा विभागों के साथ साथ राज्य और जिले स्तर के अधिकारीयों के साथ साथ इस महामारी को ख़त्म करने का प्रयास कर रहा है। संस्था, भारत सरकार के  नीति आयोग के साथ मिलकर सरकार की सहायता कर रहा हैं और जरूरतमंद लोगों की पहचानकरउनतक मदद पहुँचाने का प्रयास कर रहा है साथ साथ हर जिले के जिला अधिकारी के द्वारा बनाये गई रहत वितरण टीम का भी हिस्सा  है।”

संस्था से जुड़े हुए सलीम बेग ने बताया किइस कठिन समय में संस्था का हर कार्यकर्त्ता देश के विभिन्न जिलों में गरीब और दिहाड़ी मज़दूरों पहचान कर उनकी मदद करने की कोशिश कर रहा है इनसे खास कर ईट भट्टे पर कार्य करने वाले मज़दूर, नरेगा मज़दूर , कृषि मज़दूर से लेकर शहरों  में रिकशा चालक, फल सब्ज़ी भेचने वाले, निर्माण मज़दूर, घरेलु कामगार तथा प्रधान उद्योग में कार्यरत मज़दूर को संस्था राशन वितरण के साथ साथ मास्क, और साबुन का भी वितरण कर रहे हैं. संस्था के कार्यकर्त्ता कोरोना वायरस की महामारी से बचाओ के लिए जागरूकता तथा लोगों के बीच सोशल डिस्टैन्सिंग का महत्त्व के साथ साथ राष्ट्रीय स्तर पर लॉकडाउन का पालन करने की शिक्षा भी दे रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here